Deficiency of Iodine: क्या आपके शरीर में आयोडीन की कमी है, जानिए आयोडीन की कमी के लक्षण, बीमारियां और उनका ईलाज

0
17

Deficiency of iodine: क्या आपके शरीर में आयोडीन की कमी है, जानिए आयोडीन की कमी के लक्षण, बीमारियां और उनका ईलाज

साथियों आज के इस  लेख में हम जानेंगे कि शारीर में आयोडीन की कमी का मतलब क्या होता है? आयोडिन  की कमी के कौन-कौन से लक्षण दिखाई देते हैं? यदि शरीर में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन नहीं है तो कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं? साथ ही साथ यह भी जानेंगे कि इन बीमारियों का इलाज किस प्रकार किया जाता है? तो साथियों पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप मेरे साथ इस लेख में अंत तक बने रहे।

नमक का ज्यादा या कम होना

यदि खाना स्वादिष्ट बनाना है तो उसमें नमक की मात्रा समुचित होनी चाहिए। कभी-कभी खाने में ज्यादा नमक हो जाने की वजह से खाने का स्वाद ही बदल जाता है। साथियों हम सभी जानते हैं कि जिस प्रकार ज्यादा नमक शरीर के लिए हानिकारक होता है उसी प्रकार यदि आपके  शरीर में नमक की मात्रा कम है तो  वह भी हानिकारक ही होता है। कहने का तात्पर्य है कि जितना नुकसान ज्यादा नमक खाने से होता है, उतना ही नुकसान कम नमक खाने से भी होता है।

 ऐसी परिस्थिति में यदि हम गर्भवती महिलाओं की बात करें तो उन्हें इन सभी चीजों का ज्यादा खामियाजा भुगतना पड़ता है। कहने का अर्थ यह है कि यदि गर्भवती महिलाओं में आयोडीन की कमी पाई जाती है तो ,उनके पेट में पलने वाले बच्चे को कई प्रकार की जटिलताओं का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा आपको बताना चाहूंगा कि आयोडीन की कमी के कारण वीक मेमोरी, मोटापा और Constipation जैसी समस्याएं भी उत्पन्न होती है। एक सर्वे के अनुसार यह पाया गया है कि अब तक करीबन 2 अरब लोग आयोडीन की कमी के शिकार हो चुके हैं।

आयोडीन की कमी के कुछ महत्वपूर्ण लक्षण(SYMPTOMS OF DEFICIENCY OF IODINE)

👉आयोडीन की कमी के कारण व्यक्ति की मेमोरी धीरे-धीरे कमजोर होती जाती है।

👉यदि व्यक्ति में आयोडीन की कमी है तो वह दिन भर मायूस और उदास बना रहता है।

👉आयोडीन की कमी के कारण गोइटर होने पर गला बाहर आने लगता है।

👉यदि किसी के शरीर में आयोडीन की कमी है तो उसकी त्वचा भी रूखी और सख्त हो जाती है।

👉व्याक्ति में कॉन्स्टिपेशन जैसी समस्याएं भी आयोडीन की कमी के कारण उत्पन्न होती है।

👉व्यक्ति का वजन बढ़ना और मसल कमजोर होना भी आयोडिन की कमी का ही लक्षण है।

👉यदि किसी व्यक्ति में आयोडिन की कमी है तो धीरे-धीरे उसके बाल भी झड़ने लगते हैं तथा उसका हार्ट रेट भी घटने लगता है।

👉आयोडिन की कमी के कारण महिलाओं में हेवी पीरियड्स भी कभी-कभी देखने को मिलते हैं।

👉आयोडिन की कमी के कारण व्यक्ति को हमेशा थकान महसूस होती है, साथ ही साथ उसे सर्दी का ज्यादा एहसास होता है।

👉आयोडीन की कमी के कारण व्यक्ति के जॉइंट और मसल्स स्टीफ  हो जाते है।

👉यदि व्यक्ति में आयोडिन की कमी है तो धीरे-धीरे वह मोटा होने लगता है।

आयोडीन की कमी के कारण हृदय संबंधी रोग

यदि किसी भी व्यक्ति में आयोडीन की कमी पर ध्यान नहीं दिया जाता है तो भविष्य  मे हृदय से संबंधित किसी भी बीमारी के होने का खतरा मंडरा जाता है। ऐसे स्थिती में हृदय का आकार बढ़ जाता है और हार्ट फेल्योर का खतरा ज्यादा बना रहता है। इसके अलावा व्यक्ति का पेरीफेरल नर्वस भी क्षतिग्रस्त हो जाता है जिसके कारण  मेमोरी पावर का लॉस होने का खतरा बना रहता है। कभी-कभी व्यक्ति डिप्रेशन की स्थिति में भी चला जाता है।

गर्भवती महिलाओं में आयोडीन की कमी

अगर गर्भवती महिलाओं में आयोडिन की कमी पाई जाती है तो उनसे पैदा होने से बच्चे में कई तरह की परेशानियां दिखाई देती है। इस स्थिती में मिसकैरिज , प्रीमेच्योर बर्थ का खतरा बना रहता है।

आयोडीन की कमी को दूर करने के उपाय

संतुलित खाना खाने से आयोडिन की कमी को आसानी से दूर किया जा सकता है। आयोडिन की कमी को पूरा करने के लिए आयोडिन सप्लीमेंट भी लिए जा सकते हैं। भोजन में संतुलित नमक का सेवन करना चाहिए। एक सर्वे के अनुसार रोजाना 3 ग्राम से ज्यादा सोडियम का सेवन करना खतरनाक माना जाता है। अपने नियमित भोजन में पोटैशियम आयोडाइट  चीजों का सेवन करना चाहिए क्योंकि शरीर पोटैशियम के साथ-साथ आयोडीन को भी अब्जॉर्ब कर लेता है।

यदि आप नॉनवेजिटेरियन हो तो आपके शरीर में आयोडिन की मात्रा को संतुलित किया जा सकता है। इसके साथ ध्यान रहे कि भोजन में ज्यादा आयोडीन का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि आने वाले समय में यह शरीर के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है।

निष्कर्ष

तो साथियों इस प्रकार आज हमने यह जाना कि शारीर में आयोडीन की कमी का मतलब क्या होता है,आयोडिन  की कमी के कौन-कौन से लक्षण दिखाई देते हैं, यदि शरीर में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन नहीं है तो कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं, साथ ही साथ यह भी जाना कि इन बीमारियों का इलाज किस प्रकार किया जाता है|

👉LIC वरिष्ठ पेंशन बीमा योजना 2022,उद्देश्य,आवेदन, पात्रता, विशेषताएं

👉WHAT IS POCSO ACT 2012

👉म्यूचुअल फंड और शेयर में क्या फर्क है

👉डायबिटीज को कंट्रोल करने वाले इन्सुलिन पौधे के बारे में जानिए खास बातें

👉Aadhaar Card Name address update for wife

👉जानिए डिप्रेशन के लक्षण, कारण और ईलाज

👉पोस्ट OFFICE NSC YOJANA

👉जानिये क्या होता है तनाव ,तनाव के लक्षण कारण और इलाज

👉 What is Crypto Currency

👉 ग्लोबल वार्मिंग

👉 HOW TO SAVE TAX UNDER SECTION 80C

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here